जयशंकर का कहना है कि भारत और रूस के बीच रिश्ते काफी गहरे हैं

29 दिसंबर, 2023 08:01 पूर्वाह्न | अद्यतन 08:02 पूर्वाह्न IST – मॉस्को

उन्होंने कहा कि भारत और रूस हमेशा नए संपर्क, साझा बिंदु खोजने की कोशिश कर रहे हैं और बौद्धिक जगत बदलाव ला सकता है |

पीटीआई

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने 27 दिसंबर को मॉस्को के क्रेमलिन में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की। फोटो क्रेडिट: एएनआई

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने 28 दिसंबर को कहा कि भारत और रूस के बीच संबंध सिर्फ कूटनीति या अर्थशास्त्र के बारे में नहीं है, यह कुछ ज्यादा ही गहरा है।

रूस की पांच दिवसीय आधिकारिक यात्रा पर आए श्री जयशंकर ने सेंट पीटर्सबर्ग स्टेट यूनिवर्सिटी में भारतविदों के साथ बातचीत के दौरान यह टिप्पणी की।

उन्होंने कहा, “भारत और रूस के बीच संबंध सिर्फ राजनीति या कूटनीति या अर्थशास्त्र के बारे में नहीं है। यह बहुत गहरा है।” उन्होंने कहा कि इस समझ और जुड़ाव में बुद्धिजीवियों की भूमिका और विद्वानों का योगदान बहुत महत्वपूर्ण है। 

रूस यूक्रेन युद्ध से भारत का रूस के साथ सालो पुराना रिश्ता बहुत मजबूत है तथा दोनों देश की साझीदारी कभी कम नहीं हो पाएगी क्योंकि दोनों देश की आर्थिक साझीदारी विश्वशनियता का प्रतीक है |

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *